माँ दुर्गा आरती, जगजननी जय! जय!| Maa Durga aarti, Jagjanani jai jai

maa-durga-aarti-jagjanani-jai-maa

Aarti Maa Durga ki in Hindi

जगजननी जय! जय!! (मा! जगजननी जय! जय!!)
भयहारिणि, भवतारिणि, भवभामिनि जय! जय!! जग०

तू ही सत-चित-सुखमय शुद्ध ब्रह्मरूपा।
सत्य सनातन सुन्दर पर-शिव सुर-भूपा॥ १ ॥जगजननी०

आदि अनादि अनामय अविचल अविनाशी।
अमल अनन्त अगोचर अज आनँदराशी॥ २ ॥ जग०

अविकारी, अघहारी, अकल, कलाधारी।
कर्त्ता विधि, भर्त्ता हरि, हर सँहारकारी॥ ३ ॥ जग०

तू विधिवधू, रमा, तू उमा, महामाया।
मूल प्रकृति विद्या तू, तू जननी, जाया॥ ४ ॥ जग०

राम, कृष्ण तू, सीता, व्रजरानी राधा।
तू वांछाकल्पद्रुम, हारिणि सब बाधा॥ ५ ॥ जग०

दश विद्या, नव दुर्गा, नानाशस्त्रकरा।
अष्टमातृका, योगिनि, नव नव रूप धरा॥ ६ ॥ जग०

तू परधामनिवासिनि, महाविलासिनि तू।
तू ही श्मशानविहारिणि, ताण्डवलासिनि तू॥ ७॥ जग०

सुर-मुनि-मोहिनि सौम्या तू शोभाऽऽधारा।
विवसन विकट-सरूपा, प्रलयमयी धारा॥ ८ ॥ जग०

तू ही स्नेह-सुधामयि, तू अति गरलमना।
रत्नविभूषित तू ही, तू ही अस्थि-तना॥ ९ ॥ जग०

मूलाधारनिवासिनि, इह-पर-सिद्धिप्रदे।
कालातीता काली, कमला तू वरदे॥ १०॥ जग०

शक्ति शक्तिधर तू ही नित्य अभेदमयी।
भेदप्रदर्शिनि वाणी विमले! वेदत्रयी ॥ ११॥ जग०

हम अति दीन दुखी मा! विपत-जाल घेरे।
हैं कपूत अति कपटी, पर बालक तेरे॥ १२॥ जग०

निज स्वभाववश जननी! दयादृष्टि कीजै।
करुणा कर करुणामयि! चरण-शरण दीजै॥ १३॥ जग०

Aarti maa durga ki- Jai Ambe Gauri Aarti| माँ दुर्गा आरती

Durga ji Ke 32 naam :इन 32 नामोंका पाठ करने से असंभव कार्य भी सिद्ध हो जाते हैं

माँ दुर्गा आप सब की मनोकामनाएं पूरी करे। जय माता दी।


कर्पूरगौरं करुणावतारम् | Karpuragauram Karunavtaaram

कर्पूरगौरं करुणावतारम् संसार सारं भुजगेन्द्र हारम् ।
सदा वसंतम, हृदयारविन्दे भवं भवानी संहितम नमामि ।।



पुष्पांजलि अर्पण | Pushpanjali Arpan

सुमुध सुगन्धित सुमन लै, 
सुमन सुभक्ति सुधार,
पुष्पांजलि अर्पण करू, 
देव करो स्वीकार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *