Laxmi Pujan Vidhi Hindi: दिवाली पर इस विधि से करें पूजन- सात पीढियाँ तक करेंगी राज

Laxmi Pujan Vidhi Hindi

Laxmi Pujan Vidhi Hindi: लक्ष्मी पूजन

स्कन्द पुराण के अनुसार कार्तिक शुक्ल अमावस्या के दिन प्रातःकाल उठकर स्नान करना चाहिए।

दूध, दही, शहद, घी और शक्कर से पवित्र प्रसाद तैयार कर भगवान को अर्पण करना चाहिए। घर के बहार रंगोली बनाना चाहिए। सायंकाल महालक्ष्मी का पूजन विधिपूर्वक करने से धन की प्राप्ति होती है।

लक्ष्मी पूजन सामग्री

पान, इत्र, दूध, धूप, कपूर, दियासलाई, रोली, घी, लाल-कपड़ा, मेवा, गंगाजल, फल, लक्ष्मी-गणेश प्रतिमा या पोस्टर, सिंदूर, शहद, दही, जल-पात्र, खील, बताशे, कलावा, सुई, फूल, फूलों की माला, शंख, दूब, मिठाई, तुलसी, चांदी का सिक्का, 11 दिए और इससे ज्यादा दिये अपनी श्रृद्धानुसार एकत्रित कर लें।

पूजा शुरू करने से पहले सभी सामग्री एक जगह रख लें।

संध्या में शुभ मुहूर्त पर नए वस्त्र पहन कर परिवार सहित पूजा के लिए बैठे। ध्यान रखे की पूजा करनेवाले व्यक्ति का मुख पूर्व की ओर हो और सिर कपड़े या टोपी से ढका हो।

चौकी, चौरंग या पाटिया पर शुद्ध लाल वस्त्र बिछा कर गणेशजी, लक्ष्मीजी का स्थान बनाये।

अपने कुलगुरु का स्मरण कर मंत्र का उच्चारण करें

अपवित्र: पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोःपि वा।
यः स्मरेत्‌ पुण्डरीकाक्षं स बाह्यभ्यन्तरः शुचिः॥

गणेशजी को प्रणाम करें और अक्षत लेकर धूप-दीप से पूजन करें। फिर ब्रम्हा, विष्णु तथा महेश का स्मरण करें।

इसके पश्चात कलश लेकर उसमे सर्वोषधि, गंध, जल, जंगाजल (यदि उपलब्ध हो), अक्षत व पुष्प डालकर लाल वस्त्र मुँह पर रख उस पर नरियल रखे। अब कलश को स्तापित करें।

अब लक्ष्मी माँ की पूजा प्रारम्भ करें। रुपये पैसे, सोने और चाँदी के गहने या सिक्के सभी आपकी धन-संपत्ति, माँ लक्ष्मी का स्वरूप है। ये सब माँ के सामने रख दें।

अब दूध, दही, घी, शहद और शक्कर इन पंचामृत से उन्हें स्नान कराएं फिर जल से स्नान कराएं। माँ लक्ष्मी और फिर आपके धन को पहले कुम-कुम फिर चावल और फिर मोली चढ़ाये।

और माँ से प्रार्थना करें-

हे स्वर्ण के सामान रूप वाली, स्वर्णरजत निर्मित, मालायें धारण करने वाली, हिरणी के सामान आकर्षक गति वाली भगवती लक्ष्मी जी का मेरे घर में निवास करो।”

अब माँ लक्ष्मी को मिठाई का भोग लगाएं। आरती कर घर के बहार दीप प्रज्वलित करें।

सायंकाल दीप जलाते समय निम्न श्लोक का जप करना चाहिए

शुभम्‌ करोति कल्याणम्‌ आरोग्यं धन सम्पदां।
शत्रु वृद्धि विनाशाय: दीप ज्योति नमोःस्तुते॥

Laxmi Pujan Vidhi Hindi: लक्ष्मी पूजन

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त- शाम 06:57 से रात्रि 08:24 तक
समय- 01 घंटा 27 मिनट
प्रदोष काल- शाम 05:52 से रात्रि 08:24 तक
वृषभा काल- शाम 06:57 से रात्रि 08:55 तक
अमावस्या तिथि- दोपहर 12:23, अक्टूबर 27, 2019 से
अमावस्या तिथि- सुबह 09:08, अक्टूबर 28, 2019 तक

Click to read: Laxmi ji ki aarti

https://karmachakra.com/laxmi-ji-ki-aarti-in-hindi


परिवार एवं मित्रों के साथ शेयर करें -

Leave a Reply

Your email address will not be published.