Karwa Chauth Pooja Vidhi | पति की लम्बी उम्र के लिए इस तरह करें पूजन

karwa chauth Pooja Vidhi

Karwa Chauth Pooja Vidhi

कृष्ण मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ (Karwa Chauth) का व्रत रखा जाता है। सुहागिनें पति के दीर्घ जीवन की कामना हेतु यह व्रत करती हैं।

सुहांगिनों को इस दिन निर्जला व्रत रखना चाहिए। रात्रि को चन्द्रमा निकलने पर उसे अर्ध्य देकर पति से आशीर्वाद-लेकर भोजन ग्रहण करना चाहिए।

करवा चौथ पूजन विधि (Karwa Chauth Pooja Vidhi)

Karwa Chauth Pooja Vidhi
Karwa Chauth Pooja Vidhi

एक पीढे (पाटा) पर जल से भरा लौटा रखें। मिट्टी के एक करवे में गेहूँ और ढक्‍कन में चीनी व सामर्थ्यानुसार पैसे रखें।

रोली, चावल, गुड़ आदि से गणपति की पूजा करें। रोली से करवे पर स्वास्तिक बनाएं और 13 बिन्दियां रखें। स्वयं भी बिन्दी लगाएं।

गेहूं के 3 दाने दाएं हाथ में लेकर कथा सुनें या कहें। कथा सुनने के बाद अपनी सासूजी के चरण स्पर्श करें और करवा उन्हें दे दें।

(सासूजी नहीं होने पर घर की किसी भी स्त्री जो आपसे बड़ी हों उन्हें करवा दे सकते हैं या फिर मंदिर में दे दें) पानी का लोटा और गेहूं के दाने अलग रख लें।

यदि कहानी पंडिताइन से सुनी हो तो गेहूं, चीनी और पैसे उसे दे दें। यदि बहन-बेटी हो तो गेहूंचीनी और पैसे उसे दे दें।

रात्रि में चन्द्रोदय होने पर पानी में गेहूं के दाने डालें इसके बाद छलनी की ओट से पति को देखें और चन्द्रमा को अर्घ्‍य दें, (अर्घ्‍य देते समय पति की लंबी उम्र और जिंदगी भर आपका साथ बना रहे इसकी कामना करें) इसके बाद पति को प्रणाम कर उनसे आशीर्वाद लें, उनके हाथ से जल पीएं, फिर भोजन करें।

करवा चौथ का उजमन(उद्यापन)

एक थाल में चार-चार पूड़ियां, तेरह जगह रखकर उनके ऊपर थोड़ा-थोड़ा हलवा रख दें। थाल में एक साड़ी, ब्लाउज और सामर्थ्यानुसार रुपए भी रखें।

फिर उसके चारों ओर रोली-चावल से हाथ फेरकर अपनी सासूजी के चरण स्पर्श कर उन्हें दे दें(उनके न होने पर मंदिर में भी दे सकते हैं)

उसके बाद तेरह ब्राह्मण/ब्राह्मणियों को आदर सहित भोजन कराएं, दक्षिणा दें तथा रोली की बिन्दी/तिलक लगाकर उन्हें विदा करें।

करवा चौथ की तिथि और शुभ मुहूर्त (Karva Chauth Date and Time)
करवा चौथ की तिथि:
 17 अक्‍टूबर 2019
चतुर्थी तिथि प्रारंभ: 17 अक्‍टूबर 2019 (गुरुवार) को सुबह 06 बजकर 48 मिनट से
चतुर्थी तिथ‍ि समाप्‍त: 18 अक्‍टूबर 2019 को सुबह 07 बजकर 29 मिनट तक
करवा चौथ व्रत का समय: 17 अक्‍टूबर 2019 को सुबह 06 बजकर 27 मिनट से रात 08 बजकर 16 मिनट तक
कुल अवधि: 13 घंटे 50 मिनट
पूजा का शुभ मुहूर्त: 17 अक्‍टूबर 2019 की शाम 05 बजकर 46 मिनट से शाम 07 बजकर 02 मिनट तक. 
कुल अवधि: 1 घंटे 16 मिनट.

करवा चौथ के दिन व्रत कथा पढ़ना अनिवार्य माना गया है। करवा चौथ की कई कथाएं है लेकिन सबका मूल एक ही है।

https://karmachakra.com/karwa-chauth-vrat-katha
https://karmachakra.com/why-is-karwachauth-celebrated
परिवार एवं मित्रों के साथ शेयर करें -

Leave a Reply

Your email address will not be published.