Categories
Uncategorized

Kaise Nikhare roop? सुन्दर और कोमल त्वचा के लिए प्राकृतिक उबटन

Kaise Nikhare roop: मार्केट में बहुत से केमिकल्स युक्त प्रोडक्ट्स मिलते हैं लेकिन घर पर बनाएं गए उबटन सर्वश्रेष्ठ माने जाते हैं इसलिए आज भी भारतीय महिलाएं त्वचा को निखारने के लिए उबटन लगाती हैं।


इन प्राकृतिक उबटनों का प्रयोग करने से चेहरे पर दाग-धब्‍बे या झाइयां नहीं होते ।

Kaise Nikhare roop

बेसन, मसूर दाल का पाउडर (optional), हल्दी, थोड़ा सा पानी और बादाम का तेल (2 बूँद) मिलाकर तैयार किया गया उबटन एक प्राकृतिक उबटन है।

इस उबटन से नाजुक त्वचा को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है। मसूर दाल में विटामिन ई पाया जाता है जो एंटीऑक्सीडेंट (anti-oxidant) गुणों से भरपूर होने के कारण त्वचा को स्वस्थ रखता है।

बादाम का तेल मॉश्चराइज करता है। शरीर पर यदि बहुत ज्यादा बाल हो तो इस उबटन से मालिश करना अधिक लाभकारी होता है।

Karwa Chauth
Karwa Chauth: प्राकृतिक उबटन

चंदन और मुल्तानी मिट्टी पैक

समान मात्रा में मुल्तानी मिट्टी और चंदन पाउडर ले लें, आप चाहें तो इसमें चुटकी भर हल्दी भी मिला सकते हैं, दरअसल, हल्दी में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाया जाता है. जिससे कील-मुंहासों की परेशानी में फायदा होता है।

इन तीनों चीजों में तीन से चार चम्मच दूध डालकर एक पेस्ट तैयार कर लें। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाकर सूखने दें. जब ये सूख जाए तो हल्के गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।

Karwa Chauth
Karva Chauth: प्राकृतिक उबटन

यदि आपकी त्वचा शुष्क है तो आप दो चम्मच बेसन में शुद्ध दूध की मलाई, चुटकी भर हल्दी और एक चम्मच शहद मिलाकर एक प्राकृतिक उबटन बनाएं और इस उबटन को लगाने के बाद गुनगुने पानी से धो लें।

आमतौर पर उबटन बनाने में बेसन का उपयोग किया जाता है। चूंकि बेसन स्क्रब का भी काम करता है इसलिए हल्के हाथों से मालिश करनी चाहिए अन्यथा त्वचा छिल सकती है।


उबटन लगाने के बाद अगर जलन होने लगे तो नारियल तेल तुरंत लगा लें और दोबारा वह उबटन न लगाएं।

अगर आप कील मुहासों से परेशान हैं तो यह उबटन हर 2 सप्ताह में 1 बार जरूर लगाएं जल्द ही असर दिखेगा।

https://karmachakra.com/karwa-chauth-pooja-vidhi
https://karmachakra.com/karwa-chauth-vrat-katha
https://karmachakra.com/why-is-karwachauth-celebrated
परिवार एवं मित्रों के साथ शेयर करें -

Leave a Reply

Your email address will not be published.