Hanuman ji ko laal sindoor kyo lagate hai? हनुमान जी को लाल सिंदूर क्‍यों लगाते हैं?

Hanuman Chalisa in Hindi: रोजगार में सफलता का अचूक उपाय

Hanuman ji ko laal sindoor kyo lagate hai: रामायण की प्रसिद्ध कथा

क्या आप जानते हैं कि हुनमान जी के मंदिर में अक्सर भक्त, हनुमान जी को सिंदूर क्यों लगाते हैं? जाने इसके पीछे की कथा –

मां सीता को अपनी मांग में सिंदूर भरते देख कर, एक बार, हनुमान ने आश्चर्यपूर्वक ऐसा करने का कारण पूछा, तो जानकी ने कहा, ” पुत्र, एक तो यह श्रीराम की दीर्घायु के लिए है, और इसे देखकर श्रीराम प्रसन्न होते हैं, क्योंकि सिंदूर लगाने का अर्थ है कि श्रीराम ही मेरा सर्वस्व हैं।”

श्री हनुमान ने यह सुना तो बहुत प्रसन्न हुए और विचार किया कि जब उंगली भर सिंदूर लगाने से आयुष्य वृद्धि होती है तो फिर क्यों न सारे शरीर पर इसे पोतकर अपने स्वामी को अजर-अमर कर दूं।

अगले दिन हनुमान सारे शरीर में सिंदूर पोतकर श्रीराम के दरबार में पहुंचे हनुमान के इस रूप को देखकर समूची राजसभा आश्चर्यचकित हो गई।

श्रीराम के पूछने पर जब हनुमान ने अपने मन की बात बताई तो श्रीराम गदगद हो उठे। ऐसा करके हनुमान ने एक बार फिर श्रीराम के चरणों में अपनी भक्ति को ध्वनित कर दिया था।

तब से उनका नाम बजरंगबलि पड़ गया।

कहते हैं उस दिन से हनुमान जी को इस उदात्त स्वामी-भक्ति के स्मरण में उनके शरीर पर सिंदूर चढ़ाया जाने लगा। हनुमान चालीसा में भी वर्णित है- राम रसायन तुम्हरे पासा, सदा रहो रघुपति के दासा ।।

भगवान श्रीराम के परम भक्‍त श्री हनुमान बल, बुद्धि और विद्या प्रदान करते हैं। उन्हें भक्ति, विश्वास, वीरता और निस्वार्थ प्रेम के प्रतीक के रूप में पहचाना जाता है।

श्री रामचंद्र जी की जय

Hanuman ji ko laal sindoor kyo lagate hai in Hindi Also read :

व्यापर में सफलता प्राप्त करने के लिए जरूर पढ़ें।

यह भी पढ़ें :
।। श्री हनुमान चालीसा ।।
।।
श्री दुर्गा चालीसा ।।


श्री रामचंद्र जी की जय ,पवन पुत्र हनुमान की जय