Bhaiya Dooj Ki Kahani: यमराज भाई दूज पर क्यों करते है भाईयों की रक्षा?

Bhaiya Dooj Ki Kahani: यमराज भाई दूज पर क्यों करते है भाईयों की रक्षा?

भैया दूज कथा (Bhaiya Dooj Ki Kahani): कार्तिक शुक्ल द्वितीया को भैया दूज का पर्व मनाया जाता है।

इस पर्व को महाराष्ट्र में माऊ बीज, गुजरात में भाई बीज, बंगाल में भाई फोटा व उत्तर प्रदेश में भ्रातृ द्वितीया के नाम से जाना जाता है। लोग इसे यम द्वितीया भी कहते हैं।

मान्यता है कि इस दिन जो भाई अपनी बहन के घर जाकर उसके हाथ का बना खाना ग्रहण करता है, वह वर्ष भर अनेक व्याधियों से दूर और धन-धान्य से परिपूर्ण रहता है।

भैया दूज पूजा विधि

  1. भैया दूज के दिन नहा-धोकर स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें
  2. इसके बाद अक्षत (ध्‍यान रहे कि चावल खंड‍ित न हों), कुमकुम और रोली से आठ दल वाला कमल का फूल बनाएं
  3. अब भाई की लंबी उम्र और कल्‍याण की कामना के साथ व्रत का संकल्प लें
  4. अब विधि-विधान के साथ यम की पूजा करें
  5. फिर यमुना, चित्रगुप्‍त और यमदूतों की पूजा करें
  6. अब भाई को तिलक लगाकर आरती उतारें (याद रखें की भाई का मुख पूर्व की और हो)
  7. इस मौके पर भाई अपनी बहन को उपहार या भेंट देते हैं
  8. पूजा संपन्‍न होने के बाद भाई-बहन साथ में मिलकर भोजन करें

भैया दूज कथा: Bhaiya Dooj Ki Kahani

सूर्य के पुत्र-पुत्री यम और यमी में बहुत प्रेम था। पर बाद में राज्यकार्य के कारण यम अपनी बहन यमी अर्थात्‌ यमुनाजी को भूल गए। तब एक दिन कार्तिक शुक्ल द्वितीया को बहन ने भाई को निमन्त्रण भेजा। यम उद्विग्न हो उठे ।

उन्हें बहन के टीके की याद आई। वे यमुना के घर पहुंचे । बहन बहुत प्रसन्‍न हुईं। उसने भाई का टीका किया। टीके के बाद यम ने कुछ मांगने को कहा। बहन ने मांगा कि आज के दिन जो बहनें, भाई का टीका करें, उनकी रक्षा होनी चाहिए।

भविष्योत्तर पुराण में इस कथा के अन्त में कहा गया है- ”हे युधिष्ठिर! यमुना ने कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया को ही अपने भाई को निमन्त्रित किया था।

”अतः इस पर्व का नाम यम द्वितीया पड़ गया। इस दिन बहन के स्नेहपूर्ण हाथों से परोसा भोजन ग्रहण करना चाहिए।”

भैया दूज की तिथि और शुभ मुहूर्त
भैयादूज / यम द्वितीया की तिथि: 29 अक्‍टूबर 2019
द्वितीया तिथि प्रारंभ: 29 अक्‍टूबर 2019 को सुबह 06 बजकर 13 मिनट से
द्व‍ितीया तिथि समाप्‍त: 30 अक्‍टूबर 2019 को सुबह 03 बजकर 48 मिनट तक
भाई दूज अपराह्न समय: दोपहर 01 बजकर 11 मिनट से दोपहर 03 बजकर 23 मिनट तक
कुल अवधि: 02 घंटे 12 मिनट

इस वेबसाइट को और अच्छा बनाने के लिए हमे अपने सुझाव जरूर दें।

Hidden Stories From the Ramayana in Hindi | रामायण में छिपी ऐसी कहानियां जो आपको नहीं पता होंगी

Hanuman ji ko laal sindoor kyo lagate hai? हनुमान जी को लाल सिंदूर क्‍यों लगाते हैं?

Govardhan Pooja, अन्नकूट: जाने क्यों इंद्र देव की बजाय गोवर्धन पर्वत की पूजा की जाती है?


परिवार एवं मित्रों के साथ शेयर करें -

Leave a Reply

Your email address will not be published.