Categories
व्रत कथा

Annapurna Mata ki Katha | संपूर्ण व्रत कथा

जो जिस कामना से व्रत करें माता उनकी इच्छा पूरी करती हैं। Annapurna Mata ki Vrat Katha: अन्नपूर्णा माता जी की व्रत कथा Annapurna Mata ki Katha | संपूर्ण व्रत कथा- आरम्भ काशी निवासी धनंजय की पत्नी का नाम सुलक्षणा था । उसे अन्यान्य सब सांसारिक सुख प्राप्त थे, परन्तु निर्धनता ही एक दुःख का […]

Categories
आरती संग्रह

Annapurna Mata ki Aarti | अन्नपूर्णा देवी आरती

Annapurna Mata ki Aarti: अन्नपूर्णा माता की आरती- 1 जय अन्नपूर्णा माता, जय अन्नपूर्णा माता। ब्रह्मा सनातन देवी शुभ पल की दाता ॥ टेक ॥ अरिकुल पंदम्‌ बिनासिनि जय सेवक दाता। जग जीवन जगदम्बा हरिहर गुणगाता॥ जय ॥ सिंह को वाहन साजे कुण्डल हैं साथा। देब वृन्द जहं गाबत नृत्य करत जाता॥ सतयुग रूपशील अति […]

Categories
हनुमानजी की कहानियाँ

Hanuman Ji Ke 12 Naam | हनुमान जी के चमत्कारी नामों का रहस्य

Hanuman ji ke 12 naam: हनुमान जी के चमत्कारी नामों का रहस्य शास्त्रों के अनुसार हनुमान जी के 12 चमत्कारी नाम बताए गए हैं। हर एक नाम की अपनी महिमा है और इनके अलग अलग लाभ हैं जो नीचे दिए जा रहे हैं – छटवां लाभ जरूर पढ़ें हनुमान जी के 12 नाम इस प्रकार हैं, […]

Categories
दिवाली स्पेशल व्रत कथा

Bhaiya Dooj Ki Kahani: यमराज भाई दूज पर क्यों करते है भाईयों की रक्षा?

भैया दूज कथा (Bhaiya Dooj Ki Kahani): कार्तिक शुक्ल द्वितीया को भैया दूज का पर्व मनाया जाता है। इस पर्व को महाराष्ट्र में माऊ बीज, गुजरात में भाई बीज, बंगाल में भाई फोटा व उत्तर प्रदेश में भ्रातृ द्वितीया के नाम से जाना जाता है। लोग इसे यम द्वितीया भी कहते हैं। मान्यता है कि […]

Categories
Uncategorized

Diwali Vrat Katha Hindi: क्यों एक को दरिद्र कर लक्ष्मी जी दूसरे के पास चली जाती हैं?

Diwali Vrat Katha Hindi ऋषियों ने सनतकुमार जी से प्रश्न किया- ”भगवन्‌! राजा बलि ने लक्ष्मी जी व देवताओं को अपने वश में कर लिया था तो फिर लक्ष्मी जी ने उसका त्याग कब किया?’! सनतकुमार जी ने उत्तर दिया- ”हे ऋषियो! एक बार देवराज इन्द्र से भयभीत होकर राजा बलि कहीं जा छिपा। इन्द्र […]

Categories
दिवाली स्पेशल व्रत कथा

Diwali Ki Katha: क्यों की जाती है दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन के साथ अन्य देवताओं की पूजन

Diwali Ki Katha: दिवाली की कथा एक बार शौनकादि ऋषियों ने सनतकुमार जी से पूछा- ” भगवन्‌! दीपमालिकोत्सव (दीपावली) के अवसर पर श्री लक्ष्मी जी के साथ-साथ अन्य देवी-देवताओं का पूजन क्यों किया जाता है, जबकि दीपावली का पर्व विशेषतः लक्ष्मी पूजन का है?” ऋषियों की इस शंका को सुनकर सनतकुमार जी कहने लगे- ”हे […]

Categories
दिवाली स्पेशल

Laxmi Pujan Vidhi Hindi: दिवाली पर इस विधि से करें पूजन- सात पीढियाँ तक करेंगी राज

Laxmi Pujan Vidhi Hindi: लक्ष्मी पूजन स्कन्द पुराण के अनुसार कार्तिक शुक्ल अमावस्या के दिन प्रातःकाल उठकर स्नान करना चाहिए। दूध, दही, शहद, घी और शक्कर से पवित्र प्रसाद तैयार कर भगवान को अर्पण करना चाहिए। घर के बहार रंगोली बनाना चाहिए। सायंकाल महालक्ष्मी का पूजन विधिपूर्वक करने से धन की प्राप्ति होती है। लक्ष्मी […]

Categories
दिवाली स्पेशल

Narak Chaturdashi Puja Vidhi: घटना-दुर्घटना अकाल मृत्यु से बचने का एक मात्र उपाय

Narak Chaturdashi Puja Vidhi धनतेरस के अगले दिन नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi) को मनाया जाता है। इसे नरक चौदस और छोटी दीपावली भी कहा जाता है। सूर्य के उदय होने से करीब 1 घंटे 36 मिनट पहले नरक चतुर्दशी मनाई जाती है। लेकिन कुछ लोग सूर्य उदय के बाद चतुर्दशी मनाने के विधान को ज्यादा […]

Categories
दिवाली स्पेशल

Dhanteras Ki Puja Vidhi: अपार धन-संपत्ति के लिए इस तरह करें धनतेरस पूजन

Dhanteras ki Puja Vidhi: दिवाली से पहले धनतेरस पर पूजा का विशेष महत्व होता है। कहा जाता है कि इसी दिन भगवान धनवन्‍तरी का जन्‍म हुआ था जो कि समुन्‍द्र मंथन के दौरान अमृत का कलश और आयुर्वेद लेकर प्रकट हुए थे। इसी कारण से भगवान धनवन्‍तरी को औषधी का जनक भी कहा जाता है। […]

Categories
आरती संग्रह

Jai Laxmi Mata Aarti | लक्ष्मी जी की आरती

Jai Laxmi Mata Aarti: लक्ष्मी जी की आरती हिंदी में ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता तुमको निस दिन सेवत, हर विष्णु विधाता॥ ॐ जय उमा रमा ब्रम्हाणी, तुम ही जग माता सूर्य चन्द्र माँ ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥ ॐ जय दुर्गा रूप निरंजनी, सुख-सम्पत्ति दाता। जो कोई तुम को ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि […]